• DPC

रिश्ते की डोर: Vrriti Sharma


आज सुबह नींद से जागी तो,

हाथ में एक रिश्ते का सिरा

मुट्ठी में पकड़ा पाया |

और दुसरा सिरा यूँही अकेला,

चुपचाप ज़मीन पर पड़ा था |

जाकर उठाया उसे, तो किसी के

हाथों की गरमायिश महसूस की.

शायद कोई बस कुछ ही देर हुई,

छोड़ उसे वहाँ, आज़ाद हो चला था |

फिर अपने हाथ की तरफ़ देख,

सोचने लगी, की, क्या मैं भी इसे

यही छोड आज़ाद हो निकलूँ ?

पर तभी कानों में हंसी के ठहाके,

दो लोगों की प्यार भरी बातें,

न जाने कितने वादे, सब गूंज

उठे | मैं हैरान, परेशान सोच में

थी और सोच में ही रह गयी |

क्या पता शायद कभी वो लोट

आये, और मैं ना मिली तो |

या शायद वो ना भी आये,

और मेरा इन्तज़ार, इन्तज़ार

ही बन कर रैह गया तो ?

क्या उसने सोचा होगा इस

रिश्ते की डोर से आज़ाद होने

से पहले, पर गर सोचा होता

तो क्यों कहाँ नहीं मुझसे

या शायद ना भी सोचा हो |

इसी उधेड़बुन में खड़ी मैं,

बस दोनों सिरों को देखती

रही | फिर सोचा एक रिश्ते

को तन्हा नहीं चलाया जाता,

तो क्या ये ख़त्म हुआ ?

क्यों बना था ये, गर यूँही

ख़त्म होना था इसे |

इस क्यों, क्या और कैसे

के सैंकड़ों सवाल और

कोई जवाब नहीं | परेशान हो

मैंने अपने हाथ का सिरा छोड़ना

चाहा, और भाग जाना चाहती थी

उन सवालों से | पर, ये क्या

वो सिरा तो छूट ही नहीं रहा |

जैसे मेरी हथेली में जड़ दिया

हो किसी ने लकीरों की तरह |

ये देख हंस पड़ी मैं और उसे

और कस कर पकड़ दुसरा

सिरा भी उठा वहीं तन्हा

बैठ उन्हें देखती रही...

 

Vrriti Sharma is a humanitarian by profession and a poet and singer by heart. She believes that the little vacuum of our lives should be filled with beautiful poetry and music. Her work can be viewed at Rhetorical Journey.

27 views0 comments

Recent Posts

See All